रिश्ता



"साँझ ढले,पंछी चले,निज-निज रैन बसेरा।


मनवा कहे,ऐसे रहे,माँ-बेटे का फेरा।



होत सवेरा उड़ जाती वो,जाती लाने चारा।


दिनभर चुगकर वो लाती है,खायेगा उसका प्यारा।


आसमान में उड़-फिरकर वो ;साँझ को आ जाए डेरा..मनवा कहे....!



रोज सवेरे उड़ जाती माँ,छोड़ घास  का घेरा।


दिनभर अकेला वो डर जाता,देख शाम घनेरा।


पल में सुनकर वो खुश हो जाए, आती माँ का टेरा..मनवा कहे.....!!"


#श्रीश पाठक प्रखर 


टिप्पणियाँ

abhinaw ने कहा…
kavita achchhi lagi. wmmeed hai jakd he sunane ko milegi.
abhinaw ने कहा…
achchhi lagi.
Shama ने कहा…
Behad achhee lagee..ma ko istarah se yaad karna achha laga..
Yhan bhee aur iske poorv kee rachna me to bohot adhik...qayam rahe aulad aur maa ka aisa pyar..aulad ki apne ma ke pratai samvedna..

http://shamasansmaran.blogspot.com

http://lalitlekh.blogspot.com

http://kavitasbyshama.blogspot.com

http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

http://shama-baagwaanee.blogspot.com

htp://shama-kahanee.blogspot.com
Shama ने कहा…
"Rishta" kavita ke tahat tippanee to dee..wahan ka chitr bhee behad manohaaree laga!

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

ब्लाइंड्स एंड द एलीफैंट !

निकल आते हैं आंसू हंसते-हंसते,ये किस गम की कसक है हर खुशी में .

वो भूंकते कुत्ते...